मेरे अन्य ब्लॉग

शुक्रवार, 29 सितंबर 2017

धूप

29/09/2017
कभी छत पर चली आती है,
तो कभी खिड़की से आकर.
चारपाई पर सिरहाने बैठ जाती है|
कभी काटती तो कभी दुलार करती,
धूप कितने रंग दिखाती है|

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

त्वरित टिप्पणी कर उत्साह वर्धन करें.