मेरे अन्य ब्लॉग

रविवार, 18 सितंबर 2016

बज़ा

अपनी मजा,
उसकी रजा,
शिकवा नहीं,
जो है बज़ा।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

त्वरित टिप्पणी कर उत्साह वर्धन करें.