मेरे अन्य ब्लॉग

बुधवार, 22 फ़रवरी 2017

जाति धर्म

जिस देश का बंटवारा ही धर्म की नींव पर हुआ हो और जाति के आधार एक और बंटवारा होते होते रह गया हो उस देश में चुनाव बिना जाति धर्म की बात किये कैसे निपट सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

त्वरित टिप्पणी कर उत्साह वर्धन करें.