मेरे अन्य ब्लॉग

बुधवार, 27 नवंबर 2013

आरुषि मर्डर

आखिर एक माँ बाप क्या करता जब उसने अपनी बेटी को अपने नौकर के साथ देखा। वे उन्हें इनाम देकर उनकी पीठ तो नहीं ठोंक सकते थे। जब ऐसी कोई घटना होती है तो व्यक्ति के पास सोचने विचारने का वक्त नहीं होता। जो उसका दिमाग गवाही देता है व्यक्ति आनन फानन में निपटा देता है। अब राजेश तलवार और नुपुर तलवार का जो होना था वह हो गया। अभी हमारे समाज में बहुत से ऐसे अभिभावक हैं जो आज नहीं तो कल ऐसी स्थिति का सामना कर सकते हैं जिस स्थिति का सामना उपरोक्त दम्पति ने किया। अभी से जागो तुम्हारे बच्चे किस मन: स्थिति से कहाँ गुजर रहे हैं क्या कर रहे हैं जानकारी रखना शुरू कर दो। इससे पहले की पानी सर के ऊपर से गुजरे बांध बना दो भाई। चाहे लड़का हो या लड़की अवैध सम्बन्ध तभी बनते हैं जब परिवार के वैध सम्बन्धों का निर्वहन ठीक से नहीं होता।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

त्वरित टिप्पणी कर उत्साह वर्धन करें.