मेरे अन्य ब्लॉग

सोमवार, 24 अप्रैल 2017

रूह मरती नहीं

हाँथों बनी है कुदरती नहीं है,
इसकी पिलाई उतरती नहीं है,
पीता नहीं जो उसे क्या पता है,
क्या कह दिया रूह मरती नहीं है?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

त्वरित टिप्पणी कर उत्साह वर्धन करें.