मेरे अन्य ब्लॉग

शुक्रवार, 10 मार्च 2017

गधे


यूं तो आदमी से दूर मैदान की घास चरते रहे।
लेकिन भाषणों में मुद्दों की रिक्तता भरते रहे।
कोई माने न माने कहे न कहे सत्य ये है
इस बार सिर्फ गधे थे जो बहुत ही मशहूर रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

त्वरित टिप्पणी कर उत्साह वर्धन करें.