मेरे अन्य ब्लॉग

सोमवार, 13 मार्च 2017

इन्हीं लोगों ने लै लीना

इन्हीं लोगों ने, इन्हीं लोगों ने।
इन्हीं लोगों ने ले लीना सिंहासन मोरा।
हमरी न मानो अखिलेशवा से पूछो।
अखिलेशवा से पूछो... जिसने.....पंचर कर दीना, तोड़ा साइकिल मोरा।
हमरी न मानो राहुलवा से पूछो।
हमरी न मानो सैंया...राहुलवा से पूछो।
जिसने केसरिया रंग दीना, फटा कुरता मोरा।
हमरी न मानो, हमरी न मानो।
हमरी न मानो... सैंया ...बहिनिया से पूछो।
ई वी एम् गड़बड़ कीना, चित्त है हाथी मोरा।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

त्वरित टिप्पणी कर उत्साह वर्धन करें.