मेरे अन्य ब्लॉग

बुधवार, 29 मार्च 2017

तुषार का दर्द


मेरी कविता का आनन्द मेरी अपनी आवाज में| साथ ही एक बालक की पीड़ा का अनुभव भी आपको अवश्य होगा| कभी कभी कुछ काम बच्चे भी बड़ी संजीदगी से कर देते हैं|

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

त्वरित टिप्पणी कर उत्साह वर्धन करें.